Friday, June 16, 2017

silent of love

शब्द थे मेरे कड़वे ,लफ्जों से बोल ना सका ,शायद तुम मेरी आंखों में देख लेती कितनी मोहब्बत थी तुमसे ।

Monday, June 12, 2017

Play of Fate

तकदीर तकदीर की खेल है ,कोई अपना होते हुए भी अपना न हो सके और कोई अपना ना होते हुए भी अपना हो कर रहे गए।

Last Line

चाहत तो यही थी कि तेरी काबिल बन जाउ,पर शायद ऐसा हो न सका।

Friday, June 9, 2017

Love

कुछ प्यार के रिश्ते चाहे कितनी भी गहरी क्यों ना हो ,उस स्याही की तरह होते है जो वक्त के साथ कागज से मिट जाते हैं । No matter how deep the relationships of some love, they are like the ink that erases the paper over time.

Thursday, June 8, 2017

Fact of Life

कितनी अजीब है न ये दुनिया , लोग खुद के लिए नहीं अपनों के लिए जीते हैं ।

Thursday, June 1, 2017

In my Heart

ऐ खुदा भले ही मैं तेरे दर पर सजदा न करू ,पर दिल में तुम रहते हो ।

Wednesday, May 31, 2017

Timeline

क्या था उन शब्दों में जिन्हें मै पढ़ा करता था। शायद यह कोई कहानी थी या कोई ख्वाब था, जिन्हें मैं पढ़ा करता था या शायद कोई यादें जिन्हें पढ़कर ​मैं गुनगुनाया करता था । पता नहीं ,पर जो भी था वह मेरे लिए अनमोल था ।शायद इसीलिए मुझे याद नहीं , पर वो खास था शायद इसीलिए वो अभी भी याद था ।

Sunday, May 28, 2017

Support​ for Criminal and Traitor are dangerous for any Society and Country

अपराधी ,देशद्रोही ऐसे व्यक्तियों को जाति, धर्म के आधार पर प्रथमिकता देना, समाज और देश के लिए घातक होता है Support​ for Criminal and Traitor on the basis of their Caste and religion are dangerous for any Society and Nation

Friday, May 19, 2017

Dear PM Modi Ji

हंसी आती है अब मोदी जी के 56 इंच सीने की बातें सुनकर एक बार सर्जिकल स्ट्राइक किया हर रोज गीत की तरह गाते हैं सर्जिकल स्ट्राइक किया -सर्जिकल स्ट्राइक किया है और पाकिस्तान हर रोज हमारे देश पर सर्जिकल स्ट्राइक करता है और एक बार भी नहीं कहता सर्जिकल स्ट्राइक किया- सर्जिकल स्ट्राइक किया । अब आप यह सोच रहे होंगे कि ये पगला गया है क्या? तो हम यह बता देना चाह रहा हूंकि ,जी मैं पगलाया नहीं हूं यह हकीकत है । और हकीकत यही है कि पाकिस्तान 1947 से लेकर आज तक अपने सेना को कभी कबायली के रूप में भेज देता है और कभी आंतकवादियों के रूप में । यह तो आप भी जानते ही होंगे

Sunday, May 14, 2017

Dialogue

हंसी आती है देख कर तुम्हारी​ तस्वीर,जमाना बदल गए, पर ना तुम बदले और ना झुठी मुस्कान ली हुई तुम्हारी तस्वीर बदली । Reply मेरी दुआ होती है खुदा से हर वक्त, मेरे दोस्त मुस्कुराते रहें । मुस्कुराने की वजह चाहे जो भी हो।

Sunday, April 30, 2017

Fact Of Life

अक्सर हम उन्ही लोगों​ से सबसे ज्यादा नफरत करते हैं जिन्हें हम कभी सबसे ज्यादा मोहब्बत किया करते थें।

Fact of Life

जिंदगी में कुछ कड़वी यादों का होना भी बहुत जरूरी है, क्योंकि अच्छी यादों को लोग अक्सर भुल जाते हैं।

Saturday, April 15, 2017

One sided Love

Two types of One sided Love *Fisrt Type --- आप किसी को देखते हो और उसे अंदर ही अंदर आप उसे प्यार करने लगते हैं और धीरे-धीरे यह प्यार आपके अंदर एक भ्रम पैदा करता है कि वो भी आपसे प्यार करता/करती है, पर हकीकत ऐसा कुछ भी नहींं​ होता है।इसे साइंटिफिक भाषा में मृगतृष्णा कहा जाता है अर्थार्थ Mirage . यह उसी प्रकार का भ्रम है जिस प्रकार का भ्रम मरुस्थल में भटके हुए लोगों को होता है ।उसे ऐसा महसूस होता है कि उस जगह पर पानी है और उस पानी की तलाश में उस जगह तक पहुंच जाता है पर वास्तव में वहां पर कोई तालाब नहीं होता है जिसमें पानी हो ।उस स्थिति में वह दो तरीके से बच सकता है, पहला उसे कोई बचा ले या वह खुद को बचा सकता है ।अगर वह अपने आप को बचाने में कामयाब नहीं होता है तो उसे अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है। Second Type. किसी 3rd Person के द्वारा आपको इतनी बार यह बताया जाता है कि He/She Love you. He/She Love you वाली इस sentence को आपके दिमाग में इतना भर दिया जाता हैकि आपको भी वही दिखता है जो वह 3rd Person आपको दिखाना चाहता है और आपको भी यह एहसास होने लगता है Yes He/She Love me. पर वास्तव में यहां पर भी कुछ नहीं होता जैसा कि हम सोचते हैं ,यह भी बस भ्रम होता है जो किसी और के द्वारा हमें बताया जाता है । यह उसी प्रकार का भ्रम होता है जैसा भ्रम लोग ghost के बारे में फैलाते हैं। किसी खास स्थान के बारे में लोग यह भ्रम फैलाते हैं कि उस स्थान पर ghost है ghost है, पर वास्तव में वहां पर कुछ भी नहीं होता ।पर जब हम उस स्थान पर जाते हैं तो हम अपनी परछाई को भी यानि अपने भ्रम को भी हकीकत मान लेते हैं और डर कर भागना शुरू कर देते हैं और अपने आप का नुकसान भी कर लेते हैं । उपरोक्त से निष्कर्ष यही निकलता है कि ,दोनों प्रकार के Love में सिर्फ भ्रम की स्थिति होती है और कुछ भी नहीं। Note --- उपरोक्त दोनों ही भ्रम की स्थिति में जिसके प्रति भ्रम होता है उसका वह इंसान कोई नुकसान नहीं पहुंचाता बल्कि खुद का नुकसान पहुंचाता है। अगर वह इंसान जिसके प्रति भ्रम पैदा हुआ है उसका नुकसान पहुंचाता है तो उस प्रकार के प्यार को One Sided Love नहीं कहा जा सकता है इसे सिर्फ और सिर्फ पागलपन कहा जा सकता है और कुछ भी नहीं।

Thursday, April 13, 2017

Today Fact of my Country

कश्मीर के वो देशद्रोही जो हमारे जवानों को पत्थर मारते हैं, उन पर पैलेट गन ना चलाए , उन्हें arrest करके उन पर कार्रवाई करें ,ये ऐसे ही कहना है जैसे उस सांप को पकड़ो जो दूर से ही जानलेवा विश प्रहार करता है । हमारे देश की इतनी घटिया पॉलिटिक्स जो ऐसे लोगों को मासूम और बच्चा कहते हैं उन्हें शर्म आना चाहिए

Wednesday, March 29, 2017

New Definatoin of Innocence in My Country

देश में दोगली राजनीति कब तक। शायद देश में अब मासूमियत की परिभाषा बदलते जा रही है ।मासूम वो लोग कहे जाएंगे जो खुलेआम राष्ट्रविरोधी नारे लगाएं, हमारे देश के सेना पर पत्थर फेंके, बम फेंके, ऐसे लोग मासूमों की श्रेणी में आएंगे। ये धर्म के राजनीति करने वाले लोग इतना नीचे गिर चुके हैं की आंतकवादी को भी हीरो बोलते हैं। जिनका कोई धर्म ही नहीं है क्योंकि आतंकवाद का कोई धर्म कोई जाति नहीं होता । क्योंकि कोई धर्म ,कोई मज़हब आतंक नहीं सिखाता है। पंजाब में अलगाववादी ताकतें सशक्त हो रही थीं जिन्हें पाकिस्तान से समर्थन मिल रहा था। ऐसे राष्ट्र विरोधी ताकतों को मिटाने के लिए 1984 में ब्लू ऑपरेशन किया गया। और शांति का स्थापना किया गया ।तो फिर कश्मीर में हर रोज राष्ट्र विरोधी आवाज उठाने वाले लोगों पर कार्यवाही क्यों नहीं की जा रही है जो लोग हमारे देश के सेना को घायल कर रहे हैं मार रहे हैं उन्हें मासूम क्यों कहां जा रहा है । क्या ऐसे लोगों को मासूम कह के, कश्मीर के मुद्दे को वोट​ के लिए कोई सुलझाना ही नहीं चाह रहा है,बल्कि उसे और उलझा रहा है । जो लोग कश्मीर से 60000 से अधिक कश्मीरी पंडितों को उनके घरों से बाहर निकाल दिया और ऐसे लोगों को मासूम कहा जाता है । जो लोग पाकिस्तानी आंतकवादियों के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रहे हैं, उनका बचाव कर रहे हैं ,उनके लिए देश के सेना पर पत्थर फेंक रहे हैं , राष्ट्रविरोधी नारे लगा रहे हैं,ऐसे लोगों को मासूम कैसे कर सकते हैं हम । और अगर ऐसे लोगों को जो मासूम कह रहे हैं ,साफ तौर पर वह वोट की राजनीति कर रहे हैं ।वह सत्ता की राजनीति कर रहे हैं ,अपनी दुकाने चला रहे हैं ।जिससे वो आलीशान बंगले में बैठकर जिंदगी के मजे ले। ऐसे लोग शायद इस कहावत पर चल रहे हैं "अपना काम बनता, भाड़ में जाए जनता "। पर अब शायद देश के नेताओं को यह समझना चाहिए कि अब तुष्टिकरण की राजनीति से ऊपर उठ कर ,देशहित की राजनीति करें ।

Saturday, March 25, 2017

Drink of Love

इश्क वो जाम है ,जो होंठो से नहीं आंखों से पी जाती है । नशा तो देखो यारो, जाम भी उसके सामने शर्मा जाती है ।😝😝😝😝😝

Monday, March 20, 2017

Secularism



Secular शब्द का सीधा सा अर्थ होता है Equality ,समानता ।
पर आज हमारे देश में Secular शब्द  मजाक बनकर रह गया है।
आज हमारे देश में जो लोग एक विशेष धर्म ,जाति का समर्थन करती है , ऐसे लोगों को Secular कहा जाता है ,और ऐसी राजनीतिक पार्टीओं को Secular पार्टी कहा जाता है ।
और जो व्यक्ति, देश में ऐसे असमानता के खिलाफ आवाज उठाता है उसे संप्रदायिक व्यक्ति और ऐसे पार्टियों को संप्रदायिक पाटियाँ कहते हैं ।
और इस प्रकार का चलन हमारे देश में जोरों से फैल रहा है और अगर इसे  नहीं रोका जाता है तो ,यह हमारे देश के लिए अच्छा नहीं होगा ।
जो व्यक्ति ,पार्टी  यह छाती पीट पीट कर चिल्लाती हैंकि हम Secular हैं, ऐसे लोगों को शर्म करनी चाहिए ।
ये लोग सत्ता पाने के लिए समाज में आक्रोश पैदा कर रहे हैं जो हमारे राष्ट्र के लिए घातक हो सकता है ।
हमारे देश के लोगों को भी यह समझना चाहिए कि ऐसे लोग समाज में आक्रोश पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं, जो ना हमारे लिए अच्छा है और ना ही हमारे समाज के लिए।
 हां यह भी सच है कुछ पल के लिए ऐसा जरूर हम महसूस करते हैं, यह व्यक्ति हमारे लिए हमारे समाज के लिए आवाज उठा रहा है ,पर वास्तव में यह बिल्कुल अलग है ।
यह हमारी आवाज नहीं उठा रहा है बल्कि यह एक समाज से दूसरे समाज को अलग करने का काम कर रहा है एक दूसरे के विरोधी बनाने का काम कर रहा है ।
 Secularism यह कहां कहती हैंकि, आप एक धर्म विशेष के लोगों की बातें करेंगे तो आप Secular कहलाएंगे।
Secularism का साफ-सा अर्थ होता है ,हर धर्म -हर व्यक्ति को समान निगाहों से देखने ।
पर शायद हमारे देश में तो  Secularism को लोग मजाक बनाकर रख दिए हैं ।
जो सब को साथ रखना चाहता है ,जो असमानता के खिलाफ आवाज उठाता है उसे संप्रदायिकता का टीका लगा दिया जाता है ।
वास्तव में ये छाती पीट पीटकर  Secular होने के दावा करने वाले ही हमारे देश में सांप्रदायिकता का माहौल पैदा कर रही है ,उदहारण भरी पड़ी है ।
 सांप्रदायिकता वही फैलती है जहां लोगों में आक्रोश इस बात का रहता है कि हमारे साथ अत्याचार किया जा रहा है और ऐसे लोग अपने आप को Unsecured महसूस करते हैं और एकजुट होते हैं और तब एक वर्ग दूसरे वर का विरोधी बन जाता है ।
हमारा देश एक Secular राष्ट्र है, अतः ऐसे लोगों का साथ नहीं देना चाहिए जो Secural के नाम पर  Vote पाने के लिए  हमारे समाज मे क्रोध पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं, समाज और धर्म को बांटने की राजनीति कर रहे हैं ।

Saturday, March 18, 2017

क्या 2019 के महा विजय की ये तैयारी है ?


क्या 2019 के महा विजय की ये तैयारी है ?

BJP 2019 में योगी आदित्यनाथ को एक ऐसा चेहरा बनाना चाहती हैं ,जो यह संदेश देगी कि ,राम नाम लेने वाले,  मुस्लिम विरोधी नहीं होता है,यह महज वोट लेने के लिए मुसलमानों को डराया जाता है ।
यह देश के हर लोग जानते हैं कि ,UP का देश में क्या महत्व है,  खासकर सत्ता पाने के लिए ।
अत: BJP  का यह पूरा जोर रहेगा कि, UP के मुखिया योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में UP में सबके साथ सबके विकास के नारे का साथ ही नहीं, बल्कि जमीनी हकीकत पर भी उतारा है ।
और अगर ऐसा हो पाता है तो ,देश में ऐसे लोगों का समर्थन बढ़ेगा ,जिन्हें भगवा के नाम से डराया जाता रहा है ।
 देश में हम भी जानते हैं और आप भी की, एक वर्ग विशेष को BJP RSS के नाम से डराकर , वोटों की राजनीति किया जाता है,
पर वास्तव में ऐसा है ही नहीं ।
अगर किसी दूसरे( secular) चेहरे को UP के मुख्यमंत्री BJP बनाती तो, शायद यह देश में MESSAGE नहीं दे पाती कि BJP  सबके साथ -सबके विकास को लेकर चलती है ।

Tuesday, March 14, 2017

This Line is true(change is the rule of nature)

लोग कहते हैं ,सच्चा प्यार ना वक्त के साथ बदलता है ,ना हालात के साथ।
पर शायद यह गलत है, हमने तो प्यार ही नहीं लोग भी बदलते देखा है।

Sunday, March 5, 2017

True of Life

कोई भी इंसान बुरा नहीं होता, हालात बुरे होते हैं ।इसलिए किसी को बुरा कहने से अच्छा है ,अच्छे वक्त का इंतजार करो ।
No One is Bad in this world, Time is bad .So is not good to say bad anyone, better to wait for good Time.
https://www.twitter.com/rswahitler


Dialogue

बिखरी यादों से ,दिल को अब जिया नहीं जाता, दर्द कुछ ऐसा है दिल में, अब दिल को सहा नहीं जाता ।

Saturday, March 4, 2017

Dialogue

मेरी तनहाई अब मुझसे ही पूछती है, क्या खता हो गई ,की तुम रुठे हो हमसे l

Friday, March 3, 2017

Dialogue

उस शख्स को मैं खो दि हूं ,जो मेरे लिए, बिना कोई शर्त ,पूरी दुनिया को ठुकरा दिया था ।

Wednesday, March 1, 2017

Today True Of India politics

देश का क्या होगा ,जिसे हम अपनी माँ कहते हैं ।हमें तो फिक्र है इस बात की ,कि हमारी राजनीति कैसे चमके ।

Saturday, February 25, 2017

I Support you Dr.Tarek Fatah Sir for your Social Work 💼

अगर आप अपने धर्म के जानकार हैं, आप जिस समाज में पैदा लिए हैं उसके जानकार हैं तो,
अपने धर्म ,अपने समाज के रूढ़िवाद विचारों और कुरीतियों से अपने समाज को अवगत कराना-बताना आपका अधिकार ही नहीं ,कर्तव्य भी बनता है और अगर आप अपने धर्म के जानकार होने के नाते ,अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आप स्वयं के साथ-साथ ,आप अपने समाज का भी दोषी हैं , जिस समाज में आप पैदा लिए हैं।
राजा राममोहन राय ये ऐसे समाज सुधारको में से एक थे ,जिन्होंने अपने समाज में व्याप्त रूढ़िवादी विचारधारा और कुरीतियों को अपने समाज को बताया ही नहीं बल्कि  रूढ़िवादी विचारधारा और कुरीतियों के खिलाफ आवाज भी उठाया ।
आज उन्हीं की देन हैकी हिंदू धर्म, हिंदू समाज को,                    
*जाति प्रथा, बाल विवाह , महिलाओं की शिक्षा पर रोक , सती प्रथा* जैसोे अनेक प्रकार के रुढ़िवादी विचार और कुरीतियों से मुक्त कराया ।

लेकिन आज क्या हो रहा है ,आज हमारे इसी हिंदुस्तान में कोई अपने धर्म,समाज में व्याप्त कुरीतियों, रूढ़िवादी  विचारधाराओं से, अपने समाज  को मुक्त कराना चाह रहा है, अपने समाज को बताना  चाह रहा है, तो उसके नाम पर फतवा जारी किया जा रहा है ।
क्या किसी को अपने धर्म में व्याप्त कुरीतियों ,रुढ़िवादी विचारधारा के खिलाफ आवाज उठाना ,अपने समाज को बताना ,उस का अधिकार नहीं है ।
यह उसका हक हैकि वह अपने समाज में ,अपने धर्म में व्याप्त बुराइयों को मिटाए ,समाज को बताएं ।

तारिक फतह  जैसे विद्वान ,समाज सुधारक ,जो यह चाहते हैं कि उनके समाज में ,उनके धर्म में व्याप्त यह बुराइयां खत्म हो जाए , लेकिन कट्टरवादी विचारधारा के लोग उनके नाम पर  फतवा जारी कर रहे है ,उन्हें सरेआम बेइज्जत किया जा रहा है।

क्या यह उनके अधिकारों का हनन नहीं?

और जो लोग अपने आप को विद्वान कहते  हैं वह भी आंखे बंद करके देख रहे हैं यह सब।

ख्वाहिश

पत्थरों की कोई ख्वाहिश नहीं होते, इत्तेफाकन वो रेत बन जाते हैं ।
ख्वाहिशें क्या होतीे हैं ,वे भी जान जाते हैं ।

Tuesday, February 21, 2017

True of Life

👉🏻🙏🏻🙏🏻💐⛄☃🙏🏻🙏🏻👌🏻
बनावटी फूल और दिखावटी रिश्तो का उम्र बहुत ज्यादा होती है।
Artificial flowers and  mock Relationship has long age .

Monday, February 20, 2017

My New Song

https://youtu.be/8tdQpfjCWA8

Try to Writing Lyric

चले जा- चले जा ,चले जा- चले जा
ऐ वक्त अब  तू चले जा-ऐ वक्त अब  तू चले जा

 चले जा- चले जा ,चले जा~~~-
चले जा,चले जा-ऐ वक्त अब  तू चले जा ।

ना चाहिए तेरी यादों का साथी,
 चले जा- चले जा- चले जा ।

खुद को है मैंने ,खुद से संभाला
चले जा- चले जा- चले जा ।

चलने दे मुझको ,ऐसे ही यारा
चले जा- चले जा- चले जा ।

खुद का ऐ रास्ता, अच्छा लगे हैं मुझे
चले जा- चले जा- चले जा ।

चले जा- चले जा ,चले जा- चले जा
ऐ वक्त  तू चले जा~~~- चले जा ।

क्या मैंने खोया ,क्या मैंने पाया ,अब तू मुझे ये ना बता~~~
चले जा- चले जा ,चले जा- चले जा
ऐ वक्त  तू चले जा~~~- चले जा ।

अच्छा नहीं है दिल का सताना ,
चले जा- चले जा ,चले जा ।

अच्छा लगे हैं मुझे खुद में  भुलाना,
चले जा- चले जा ,चले जा- चले जा ।

अच्छा नहीं है दिल का सताना ,
चले जा- चले जा ,चले जा ।

चले जा- चले जा ,चले जा- चले जा, ऐ वक्त अब  तू चले जा ।
चले जा-चले जा ।

Wednesday, February 15, 2017

दर्द भी खामोश है

वक्त भी खामोश है, लब्ज भी खामोश है। खामोशी का आलम तो देखो, यहां तो दर्द भी खामोश है।

Sunday, February 12, 2017

कहना तो बहुत है, मगर

कहना तो बहुत है, मगर शब्दों की बंदिस है, बताओ अब मैं क्या कहूं।
महसूस करता हूं तुम्हारे हर दर्द को ,पर बताओ मैं क्या करूं ।

Saturday, February 4, 2017

Dialogue

बड़ी अजीब है हमारी मोहब्बत का दास्तां वह हमें मिटाकर भूलना चाहती है और हम उन्हें सजा कर, पर शायद हो न सका

Dialogue

इश्क़ के नाम लेकर लोग यूं ही बदनाम किया करते हैं हमें, किसी के दर्द ने हमें निकम्मा कर दिया था, हमें इश्क़ तो आता
 ही नहीं ।

Thursday, February 2, 2017

Dialogue

कब तक खुद को खामोश रखूं ये दिल, कभी तू भी तो खामोश हो जा, तेरी खामोशी ही मुझे खामोश कर देगी।

Dialogue

हम रुठ गए तो क्या हुआ, हमें मनाता भी कौन ।
ग़म के एक खिलौने थे जिन्हें हम खेल गए ,हमे रोकने वाला था कौन ।
इस जंग में जीत भी जाते तो क्या होता ,जश्न मनाने वाला था कौन।

Thursday, January 19, 2017

Dialogue

किसी को इतनी भी मोहब्बत ना करो,कि वो तुम्हारी बुरी आदतों में शुमार हो जाए, क्योंकि अच्छी आदते बदलती है ,बुरी आदते नहीं ।

Tuesday, January 17, 2017

Dialogue

खुद को हर रोज बहलाता हूं, पर हकीकत  कुछ ऐसी है ,उसे भुल ना पाता हूं ।

Monday, January 16, 2017

फिर से बच्चा बन जाता हूं ।

जब  दिल कहता है ,चल मस्ती कर ले, मैं बच्चा बन जाता हूं।
पर दुनिया के उसूलों से ,मैं झट से घबरा जाता हूं ।
यह सोच कर रुक जाता हूं, बच्चा नहीं हूं फिर क्यों बच्चा बन जाता हूं।
पर दुनिया के उसूलों से क्यों घबराउ मै ,यह सोचकर फिर से बच्चा बन जाता हूं ।

Friday, January 13, 2017

Try to write lyrics

तेरी जिक्र को, मैं फिक्र में रखूं । तेरी दिल को दिल में , खास रखूं ।

खोया तुझे हूं, खुद को नहीं । फिर खोया हुआ हूं ,क्यों खुद में कहीं ।

चल दिया मैं ~क्यों इस कदर,
था रास्तों का ना कोई फिकर,
चल दिया मै, क्यों इधर ।

तेरी बातों को, बातों में याद रखूं ,
तेरी यादों को, यादों में खास रखू़ं।

थी फैसले ,अपनी मगर, थी सही ,तेरे लिए ।
तेरी ख्वाब को ,ख्वाब में याद रखूं
तेरी चाहतो को, चाहतो में खास रखू़ं।

Thursday, January 12, 2017

My New Song

तेरी जिक्र को, मैं फिक्र में रखूं । तेरी दिल को दिल में ,मै खास रखूं ।
https://youtu.be/bcqOveoxYg8

Tuesday, January 10, 2017

Dialogue

वक्त ही तो है ,गुजर जाएगा ,पर याद रखना, मैं भी वक्त की तरह कभी लौट कर ना आऊंगा ।

Thursday, January 5, 2017

ऐ वक्त अब बदल भी जा, जिन्हें बदलना था वो बदल भी गए ।

ऐ वक्त ,खामोश क्यों रहा करता है तू ,कभी चल भी दिया कर।
जिन्हें बदलना था वो बदल भी गए ,
ऐ वक्त कभी तू भी बदला कर ।